LIVE TVMain Slideउत्तर प्रदेशखेलदेश

मुख्यमंत्री ने स्ट्रेंथनिंग द स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक एडमिनिस्टेªशन की क्षेत्रीय कार्यशाला को सम्बोधित किया

मुख्यमंत्री ने स्ट्रेंथनिंग द स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक एडमिनिस्टेªशन की क्षेत्रीय कार्यशाला को सम्बोधित कियामुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि उत्तर प्रदेश आज देश के अग्रणी राज्यों में से एक है और देश के विकास में अपना पूर्ण योगदान कर रहा है। उत्तर प्रदेश की प्रगति और समृद्धि जनसहभागिता एवं अन्तर्विभागीय समन्वय के माध्यम से सम्भव हुई है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक लोक सेवक को अपने कार्यों से जनसहभागिता को निरन्तर बढ़ाना होगा। विकास की नीतियों के निर्माण व उनके क्रियान्वयन में जनभागीदारी होने से लोगों में प्रशासनिक व्यवस्था के प्रति विश्वास में वृद्धि होती है।
मुख्यमंत्री जी आज यहां बैंकर्स इंस्टीट्यूट ऑफ रूरल डेवलपमेण्ट में आयोजित स्ट्रेंथनिंग द स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक एडमिनिस्टेªशन की क्षेत्रीय कार्यशाला को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश आज नये विश्वास के साथ आगे बढ़ रहा है। प्रदेश के नियुक्ति एवं कार्मिक विभाग व केन्द्रीय प्रशासनिक सुधार एवं लोक शिकायत मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित इस कार्यशाला में उन्होंने प्रशासनिक कार्य क्षमता के उन्नयन एवं लोक सेवा की पारदर्शी, जवाबदेह एवं उत्तरदायित्वपूर्ण व्यवस्था में तकनीक के उपयोग पर अपने विचार व्यक्त किए।
मुख्यमंत्री जी ने प्रशासनिक कार्य कौशल के संदर्भ में प्रदेश सरकार द्वारा उठाए गए कदमों का उल्लेख करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने लोक सेवकों के चयन में ईमानदार एवं पारदर्शी प्रक्रिया को अपनाया, जिससे योग्यता को उचित स्थान मिला है। प्रदेश सरकार के साढ़े चार वर्ष के कार्यकाल में साढ़े चार लाख युवाओं को सरकारी नौकरियों में नियोजित किया गया। प्रदेश में लोक सेवकों के उच्च स्तरीय प्रशिक्षण संस्थानों को विकसित किया जा रहा है तथा कार्यरत प्रशिक्षण संस्थानों को सुदृढ़ किया जा रहा है। प्रशिक्षण के दौरान लोक सेवक को उसके उत्तरदायित्वों एवं कार्यों की जानकारी प्राप्त होने के साथ ही उसके क्षमता निर्माण में वृद्धि भी होती है। उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों से अधीनस्थ अधिकारियों के सीखने में मदद करने की बात कही।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वर्ष 2017 के बाद सभी विभागों में पर्याप्त मैनपावर की व्यवस्था की गयी है। विभिन्न भर्ती बोर्डों की पृथक-पृथक कार्य प्रक्रिया को समायोजित किया गया है, जिससे कम समय में भर्ती प्रक्रिया पूरी हो रही हैं। न्यायालय में लम्बित भर्ती प्रक्रियाओं को आगे बढ़ाया गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने तय समय में पर्याप्त संख्या में पुलिस भर्तियां की हैं। यह पुलिस बल प्रदेश की कानून व्यवस्था को निरन्तर सुदृढ़ कर रहा है। आज प्रदेश में कानून का राज है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सभी को अपने कार्यक्षेत्र की भौतिक एवं व्यावहारिक जानकारी होनी चाहिए। कार्य एवं कार्य की प्रकृति की व्यवस्थित जानकारी हमारे कार्य की गुणवत्ता में वृद्धि करती है। उन्होंने प्रयागराज कुम्भ-2019 का उल्लेख करते हुए कहा कि समयबद्ध तैयारी, समन्वय तथा तकनीक के भरपूर उपयोग से दिव्य एवं भव्य कुम्भ सफलतापूर्वक आयोजित हो सका। प्रयागराज कुम्भ ने स्वच्छता, सुरक्षा एवं सुव्यवस्था के नये मानक गढ़े हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश पुलिस ने 24 करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं के साथ मित्रवत एवं अपने परिवार के सदस्य की भांति व्यवहार किया, जिससे पुलिस कर्मियों के प्रति लोगों के मन में सम्मान का भाव पैदा हुआ।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अन्तर्विभागीय समन्वय के माध्यम से पूर्वी उत्तर प्रदेश सहित राज्य के 38 जनपदों में इंसेफलाइटिस के प्रभावी नियंत्रण पर सफलता प्राप्त हुई है। इंसेफलाइटिस से हुई मृत्यु के मामलों में 98 प्रतिशत की कमी आयी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार को अन्तर्विभागीय समन्वय के माध्यम से ही कोरोना को नियंत्रित करने में सफलता मिली है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा त्वरित निर्णय लिए जाने से बेहतर परिणाम मिलते हैं। प्रदेश सरकार राज्य में ई-ऑफिस व्यवस्था को लागू करा रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने भ्रष्टाचार पर प्रभावी अंकुश लगाने में सफलता प्राप्त की है। उन्होंने भ्रष्टाचार निवारक उपायों व प्रक्रियाओं को निरन्तर गतिशील रखने पर बल दिया।
इससे पूर्व, मुख्यमंत्री जी ने केन्द्रीय कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन राज्य मंत्री डॉ0 जितेन्द्र सिंह को ओ0डी0ओ0पी0 उत्पाद तथा आई0आई0टी0 कानपुर द्वारा प्रदेश के सफल कोरोना प्रबन्धन पर किए गए अध्ययन की एक प्रति भेंट की।
इस अवसर पर केन्द्रीय कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन राज्य मंत्री डॉ0 जितेन्द्र सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश उत्तम प्रदेश की ओर अग्रसर है तथा लोक प्रशासन के श्रेष्ठ मॉडल के रूप में उभरा है। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही जनपदों का गुड गवर्नेन्स इण्डेक्स तैयार किया जाएगा। उत्तर प्रदेश, केन्द्र के साथ अपने ग्रीवान्स सिस्टम को साझा करने वाला पहला राज्य होगा। सामूहिक प्रयासों से ही हम अपने परिणामों को प्राप्त कर सकते हैं। प्रशासनिक सेवा का परिदृश्य तीव्र गति से बदल रहा है। उन्होंने कहा कि भारत युवाओं का देश है और हम उन पर भरोसा करते हैं। शैक्षणिक प्रमाण पत्रों को राजपत्रित अधिकारी से सत्यापित कराने की प्रक्रिया को समाप्त किया जा चुका है। भाई-भतीजावाद एवं भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए विभिन्न पदों से साक्षात्कार की व्यवस्था को भी समाप्त किया जा चुका है। साक्षात्कार व्यवस्था को समाप्त करने के संदर्भ में उत्तर प्रदेश सरकार की अग्रणी भूमिका रही है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश का संदेश पूरे देश में जाता है। केन्द्र एवं प्रदेश सरकार ने भर्ती प्रक्रियाओं के परिदृश्य को बदला है। कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट हेतु नेशनल टेस्टिंग एजेंसी का गठन किया गया है। तकनीक के समावेश व सकारात्मक माहौल के कारण भर्ती प्रक्रियाओं की समयावधि घटी है तथा प्रशासनिक कार्यों की गुणवत्ता में वृद्धि हुई है।
क्षमता निर्माण आयोग के अध्यक्ष श्री आदिल जैनुलभाई ने कहा कि प्रशिक्षण संस्थान नौकरशाहों के क्षमता निर्माण में अहम भूमिका निभाते हैं। जनोन्मुखी एवं उपभोक्ता केन्द्रित लोक सेवा ही लोक सेवक का धर्म है।
केन्द्रीय प्रशासनिक सुधार एवं लोक शिकायत विभाग के सचिव श्री संजय सिंह ने कहा कि ‘मिशन कर्मयोगी’ से लोक सेवकों के क्षमता निर्माण में वृद्धि होगी।
अपर मुख्य सचिव नियुक्ति एवं पेंशन श्री देवेश चतुर्वेदी ने धन्यवाद ज्ञापित किया।
इस अवसर पर केन्द्रीय प्रशासनिक सुधार एवं लोक शिकायत के विशेष सचिव श्री वी0 श्रीनिवास, बैंकर्स इंस्टीट्यूट ऑफ रूरल डेवलपमेण्ट के निदेशक श्री शंकर पाण्डेय सहित शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।

Loading...

मुख्यमंत्री ने जनपद मेरठ में टोक्यो पैरालम्पिक-2020 के पदक विजेता तथा प्रदेश के प्रतिभागी खिलाड़ियों को सम्मानित किया

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि चुनौतियांे के बीच श्रेष्ठ अवसर की तलाश के लिए खिलाड़ी हमेशा सजग रहते हैं। कोरोना काल की विपरीत परिस्थितियों में भी अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाते हुए हमारे खिलाड़ियों ने शानदार और सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। टोक्यो पैरालम्पिक में हमारे खिलाड़ियों ने अपनी प्रतिभा और प्रदर्शन से देश का गौरव बढ़ाया है।
मुख्यमंत्री जी ने आज जनपद मेरठ में सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय में आयोजित टोक्यो पैरालम्पिक गेम्स-2020 में भारत के पदक विजेता एवं प्रदेश के प्रतिभागी खिलाड़ियों के सम्मान समारोह कार्यक्रम को सम्बोधित किया। उन्होंने इस अवसर पर 19 पदक जीतने वाले 17 खिलाड़ियांे को व प्रतिभाग करने वाले 06 खिलाड़ियांे को कुल 32.50 करोड़ रुपये की धनराशि का वितरण किया। उन्होंने खेल पर आधारित एक प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि खेलेगा यूपी, खिलेगा यूपी, खेलेगा इण्डिया, खिलेगा इण्डिया। उन्होंने कहा कि टोक्यो ओलम्पिक व पैरालम्पिक में अब तक का सबसे बेहतरीन प्रदर्शन खिलाड़ियांे द्वारा किया गया। खेलो इण्डिया खेलो तथा सांसद खेल स्पर्धा के माध्यम से भी खेल व खिलाड़ियांे को बढ़ावा देने का कार्य किया जा रहा है। हम सब देश के कारण है और देश हमारी पहचान है। प्रदेश सरकार द्वारा राज्य, राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय खिलाड़ियांे व वृद्ध व विपन्न खिलाड़ियांे को वित्तीय सहायता दी जा रही है। मेरठ में मेजर ध्यानचन्द स्पोर्ट्स विश्वविद्यालय की स्थापना का निर्णय लिया गया है।
मुख्यमंत्री जी ने सन् 1857 की क्रान्ति का बिगुल फूंकने वाली मेरठ की क्रान्तिधरा पर पैरालम्पिक खिलाड़ियांे का स्वागत हुए कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की प्रेरणा व प्रोत्साहन तथा खेल मंत्री भारत सरकार श्री अनुराग ठाकुर के नेतृत्व में टोक्यो ओलंपिक व टोक्यो पैरालम्पिक में खिलाड़ियांे द्वारा अब तक का सबसे बेहतरीन प्रदर्शन किया गया। उन्होंने कहा कि हर भारतवासी का यह नैतिक कर्तव्य बनता है कि भारत की पहचान को बढ़ावा देने वाले व वैश्विक पटल पर नाम रोशन करने वाले खिलाड़ियांे का सम्मान करें।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि केन्द्रीय खेल मंत्री, जो कार्यक्रम के मुख्य अतिथि हैं, ने स्वयं खिलाड़ियांे का हाल जाना व व्यवस्थाआंे का भी जायजा लिया। इसके लिए उन्होंने केन्द्रीय खेल मंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा दिव्यांगजनों के कल्याणार्थ अनेक योजनाएं संचालित की जा रही हैं। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री, भारत सरकार श्री वीरेन्द्र के नेतृत्व इन योजनाओं का सीधा लाभ पात्रों को मिल रहा है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रधानमंत्री जी की सोच कुछ नया करने की रही है, उस सोच को आगे बढ़ाने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब भी मेरठ की बात होती है, तो मेरठ स्पोर्ट्स गुड्स के लिए भी जाना जाता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश ने वर्ष 2018 में प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा से ‘एक जनपद, एक उत्पाद योजना’ प्रारम्भ की गई। उन्होंने कहा कि इस योजना का मतलब जनपद के विशिष्ट उत्पाद के माध्यम से जिले की पहचान बन सके। जिससे इसके माध्यम से जनपद में व्यापक रोजगार व निवेश की सम्भावनाओं को आगे बढ़ाया जा सके। उन्होंने कहा कि विभिन्न प्रकार के शोध करने के उपरान्त मेरठ को स्पोर्ट्स गुड्स के लिए एक जनपद एक उत्पाद योजना के तहत चुना गया।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि मेरठ ने स्पोर्ट्स गुड्स के क्षेत्र में उत्तरोत्तर तरक्की और अनुकरणीय कार्य किया है। उन्होंने कहा कि मेरठ में स्पोर्ट्स विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए शीघ्र ही कार्य प्रारम्भ होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि मेरठ के स्पोर्ट्स गुड्स की अपनी एक गुणवत्ता है, जिसकी पूरे विश्व में डिमाण्ड है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार स्पोर्ट्स गुड्स व अन्य उद्यमों को बढ़ावा देने के लिए निरन्तर कार्य कर रही है, जिसके परिणाम भी देखने को मिल रहे हैं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने खिलाड़ियांे की आवश्यकताओं को महसूस किया और खेलो इण्डिया खेलो के माध्यम से भी खेल व खिलाड़ियांे को बढ़ावा देने का कार्य किया है, जिसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री जी के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि 24 अगस्त से 05 सितम्बर, 2021 तक टोक्यो पैरालम्पिक-2020 में भारत के 54 खिलाड़ियांे ने 09 खेलों में प्रतिभाग कर 05 स्वर्ण, 08 रजत व 06 कांस्य पदक सहित कुल 19 पदक जीते। उन्होंने कहा कि इन खिलाड़ियांे में से 08 खिलाडी उ0प्र0 के थे।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जिलाधिकारी गौतमबुद्धनगर ने भी देश के लिए पदक जीते और प्रदेश सरकार ने उनको 05 वेतन वृद्धि देने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रदेश के खिलाड़ियांे को टोक्यो पैरालम्पिक में स्वर्ण पदक जीतने के लिए 06 करोड़ रुपये, रजत पदक के लिए 04 करोड़ रुपये व कांस्य पदक के लिए 02 करोड़ रुपये प्रदान किए जा रहे हैं। इसी प्रकार, उत्तर प्रदेश से बाहर के खिलाड़ियांे के लिए स्वर्ण पदक के लिए 02 करोड़ रुपये, रजत पदक के लिए 1.50 करोड़ रुपये व कांस्य पदक के लिए 01 करोड़ रुपये देने का कार्य किया जा रहा है। उ0प्र0 के खिलाड़ी जिन्होंने टोक्यो पैरालम्पिक में प्रतिभाग किया, लेकिन बेहतर प्रदर्शन के बावजूद पदक नहीं जीत पाए, राज्य सरकार ने ऐसे खिलाड़ियांे को भी 25-25 लाख रुपये देने का कार्य किया है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि गत 19 अगस्त, 2021 को लखनऊ में टोक्यो ओलम्पिक में पदक विजेताओं व प्रतिभाग करने वाले खिलाड़ियांे व टीमों का सम्मान समारोह आयोजित किया गया, जिसमें पुरुष हॉकी में कांस्य पदक विजेता भारतीय हॉकी टीम के सभी खिलाड़ियांे, उ0प्र0 के 10 प्रतिभाग करने वाले खिलाड़ियांे सहित 72 खिलाड़ियांे को नकद पुरस्कार व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। उन्होंने कहा कि टोक्यो पैरालम्पिक में जितने भी प्रशिक्षक गये थे, उन्हें भी राज्य सरकार 10-10 लाख रुपये की धनराशि पुरस्कार स्वरूप प्रदान करेगी।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश सरकार ने पिछले साढ़े चार वर्षाें में अब तक प्रदेश मे अवस्थापना सुविधाआंे के विकास के लिए कुछ नया करने का प्रयास किया है। उन्होंने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार के सहयोग से अब तक प्रदेश में 71 स्टेडियम, 02 मिनी स्टेडियम, 68 बहुउद्देशीय हॉल, 38 तरणताल, 01 अन्तर्राष्ट्रीय ऑल वेदर तरणताल, 02 अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, 11 सिन्थेटिक हॉकी स्टेडियम, 02 फ्लड लाइट सिन्थेटिक हॉकी स्टेडियम, 02 सिन्थेटिक रनिंग ट्रैक, 02 जूडो हॉल, 30 अत्याधुनिक जिम उपकरण, 06 शूटिंग रेंज, 11 सिन्थेटिक टेनिस कोर्ट, 19 डॉरमैट्री, 16 सिन्थेटिक बॉस्केटबॉल कोर्ट, 11 कुश्ती हॉल, 11 वेटलिफ्टिंग हॉल का निर्माण किया जा चुका है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि 16 खेलों के लिए 19 जनपदों में 44 छात्रावास संचालित किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा आवासीय छात्रावास के खिलाड़ियांे को 250 रुपये प्रतिदिन की दर से सहयोग राशि प्रदान की जाती है। साथ ही, भोजन, प्रशिक्षण, शिक्षा आदि निःशुल्क दी जाती है। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में तीन स्पोर्ट्स कॉलेज लखनऊ, गोरखपुर व इटावा में संचालित किये जा रहे हैं, जहां पर खिलाड़ियांे को भोजन, आवास व प्रशिक्षण निःशुल्क उपलब्ध कराया जाता है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अर्जुन पुरस्कार, द्रोणाचार्य पुरस्कार, मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार तथा खेल में पद्मश्री व पद्मभूषण से सम्मानित खिलाड़ियांे को 20 हजार रुपये प्रतिमाह की वित्तीय सहायता भी प्रदान की जाती है। प्रदेश के खिलाड़ियांे के कल्याणार्थ चलायी जा रही योजनाओं के अन्तर्गत वृद्ध, अशक्त और विपदाग्रस्त खिलाड़ियांे में राज्यस्तरीय खिलाड़ियांे को 04 हजार रुपये प्रतिमाह, राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ियांे को 06 हजार रुपये प्रतिमाह व अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ियांे को 10 हजार प्रतिमाह की वित्तीय सहायता भी उपलब्ध करायी जाती है। उन्होंने कहा कि हम सब देश के कारण हैं और देश हमारी पहचान है।
युवा कार्य एवं खेल तथा सूचना एवं प्रसारण मंत्री, भारत सरकार श्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि उत्तर प्रदेश की सरकार ‘सोच ईमानदार, काम दमदार’ के मंत्र को ध्यान में रखकर कार्य कर रही है। योजनाओं का लाभ प्रदेश के कोने-कोने पर पात्रांे तक पहुंचाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि उ0प्र0 के मेरठ में स्पोर्ट्स विश्वविद्यालय बनाने का कार्य शुरू होने वाला है, जिससे खेल प्रतिभाओ ंको बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि वह मेरठ से बहुत वर्षों से जुडे़ हैं। उन्होंने कहा कि पूर्व में उत्तर प्रदेश में भय का माहौल था, जिसे वर्तमान सरकार में मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में समाप्त किया गया।
युवा कार्य एवं खेल तथा सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने कहा कि कोविड-19 के दौरान भी खिलाड़ियांे ने अभ्यास व प्रयास जारी रखा व देश को मेडल दिलाया। उन्होंने कहा कि यह मेरठ की धरती है, जो खिलाड़ियांे का स्वागत करती है। उन्होंने कहा कि आज सांसद खेल स्पर्धा प्रतियोगिताएं आयोजित की जा रही हैं। उन्हांेेने कहा कि हम खेलांे को बढ़ावा देने वाले हैं। उन्होंने कहा कि टोक्यो पैरालम्पिक में खिलाड़ियांे ने पदक जीतकर भारत का मान व शान बढ़ाने का कार्य किया है, जिसकी जितनी भी प्रशंसा की जाए, कम है।
युवा कार्य एवं खेल तथा सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने कहा कि मेरठ की स्पोर्ट्स इण्डस्ट्री प्रख्यात है तथा अपने खेलों के सामान के लिए विश्व में जानी जाती है। उन्होंने कहा कि टोक्यो पैरालंपिक में जिन 08 खिलाड़ियांे ने उ0प्र0 से प्रतिभाग किया है उनमें से 07 पश्चिम क्षेत्र के है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार ने पश्चिम क्षेत्र को भी बढ़ावा देने का काम किया और मेरठ में स्पोर्ट्स विश्वविद्यालय बनाने की घोषणा की जिसका कार्य शुरू होने वाला है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने उ0प्र0 को भय व भ्रष्टाचार से मुक्त करने का कार्य किया है।
मेरठ खेल नगरी के साथ-साथ खिलाड़ियांे के माध्यम से खेल के क्षेत्र में बडी-बडी उपलब्धियां हासिल करने जा रहा है। उन्होंने कहा कि आज के आयोजन से खेल प्रतिभाओं को बढ़ावा मिलेगा तथा आज के कार्यक्रम में सम्मिलित दिव्यांग खिलाड़ी व प्रदेश के अन्य दिव्यांग खिलाड़ियांे को इससे प्रोत्साहन मिलेगा। वह भी मेडल जीतकर देश का मान बढ़ायेंगे तथा उनको भी सम्मान मिलेगा। उन्होंने कहा कि मेरठ की स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी देश व प्रदेश के खिलाड़ियांे के लिए वरदान साबित होगी। उन्होंने कहा कि टोक्यो पैरालम्पिक में 54 खिलाड़ी गये थे और वह 19 मेडल जीतकर आये हैं तथा भारत की 24वीं रैंक भी आयी।
केन्द्रीय पशुपालन राज्यमंत्री डॉ0 संजीव बालियान ने कहा कि उ0प्र0 में वर्तमान सरकार से पूर्व मेडल जीतने वालों का सम्मान नहीं हुआ। मुख्यमंत्री जी द्वारा खिलाड़ियों को सम्मान देने का कार्य सराहनीय व प्रशंसनीय है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने प्रदेश के खिलाड़ियांे के साथ-साथ दूसरे प्रदेशों के खिलाड़ियांे का भी सम्मान कर एक नयी मिसाल कायम की है, जो अनुकरणीय है।
डॉ0 बालियान ने कहा कि जैसे हरियाणा खेलों में आगे रहता है। इसी प्रकार उ0प्र0 भी खेलों में आगे रहेगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने मेरठ के सलावा गांव में स्पोर्ट्स विश्वविद्यालय बनाने की घोषणा की है, जिससे खेल प्रतिभाओं को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि पश्चिमी उ0प्र0 व हरियाणा खेलों मंे आगे रहे हैं। उन्होंने सभी खिलाड़ियांे जिन्हांेने टोक्यो पैरालम्पिक में पदक जीते व प्रतिभाग किया उनका अभिनन्दन किया व उन्हें शुभकामनाएं दीं।
केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री वीरेन्द्र कुमार ने कहा कि मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में उ0प्र0 सरकार द्वारा टोक्यो पैरालम्पिक के उ0प्र0 व प्रदेश के बाहर के खिलाड़ियांे को सम्मानित करने के लिए इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। उन्होंने कहा कि टोक्यो पैरालम्पिक में 19 खिलाड़ी गये थे और वह 19 पदक जीत कर लाये व देश का मान बढ़ाया।
केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार उ0प्र0 में खेल प्रतिभाओं को बढ़ावा देने का अच्छा कार्य कर रही है और खेल छात्रावास भी बनाये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी के कुशल नेतृत्व में ग्वालियर में पहला दिव्यांग खेल केन्द्र बनाया जा रहा है, जिससे दिव्यांग खिलाड़ियांे को सुविधाएं मिलेगी व खेल प्रतिभाओं को निखरने का अवसर प्राप्त होगा। इसमें पुरुष व महिला वर्ग के लिए अलग-अलग छात्रावास भी बनाये जा रहे है। उन्होंने कहा कि दिव्यांगजनांे के हितार्थ उ0प्र0 में अच्छे कार्य किये जा रहे हैं तथा खेल के मैदान भी बनाये जा रहे हैं।
प्रदेश के खेल एवं युवा कल्याण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री उपेन्द्र तिवारी ने कहा कि 29 अगस्त, 2021 को उ0प्र0 में ओलम्पिक के पदक विजेताओं का सम्मान समारोह आयोजित किया गया और आज टोक्यो पैरालम्पिक में शानदार प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों का सम्मान समारोह आयोजित किया जा रहा है। यह कार्यक्रम अपने आप में अद्भुत व ऐतिहासिक है, इससे खेल को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि उ0प्र0 में ही नहीं बल्कि, पूरे देश के खिलाड़ियांे में एक नयी चेतना जागृत हुयी है।
खेल एवं युवा कल्याण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) ने कहा कि खिलाड़ियांे के मनोबल को बढ़ाने के लिए मुख्यमंत्री जी ने ओलम्पिक गेम, कॉमनवेल्थ गेम, एशियन गेम, विश्व चैैम्पियन मे उ0प्र0 के पदक विजेता खिलाड़ियांे को सीधे राजपत्रित पद व पुलिस में डिप्टी एस0पी0 पद पर नियुक्ति देने का आदेश दिया, जिस पर प्रक्रिया तीव्र गति से चल रही है। मुख्यमंत्री जी ने खेल अधिकारियों के पदों को सृजित कर उस पर भर्ती करायी, ताकि खिलाड़ियांे को सुविधा प्रदान करायी जा सके व उनको बढ़ावा मिले। प्रदेश सरकार ने विभिन्न प्रतियोगिताआंे में प्रतिभाग करने के लिए अनुदान राशि को बढ़ाया है।
खेल एवं युवा कल्याण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) ने कहा कि उ0प्र0 में खेल प्रतिभाओं को बढ़ावा देने का कार्य मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में चल रहा है, जिसके सुखद परिणाम भी देखने को मिल रहे हैं। उ0प्र0 में सबसे ज्यादा युवा रहते हैं तथा उ0प्र0 युवाओं का प्रदेश है। उ0प्र0 की सरकार नौजवानों की सेवा करने व उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए तत्पर है। ब्लॉक स्तर से लेकर जिला स्तर, राज्य स्तर, राष्ट्रीय स्तर व अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर उ0प्र0 की खेल प्रतिभाओं को बढ़ाने का कार्य मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में किया जा रहा है।
कार्यक्रम में मुख्यमंत्री जी द्वारा टोक्यो पैरालम्पिक गेम्स-2020 में पदक जीतने वालो को पुरस्कार राशि प्रदान की गयी। इसमें राजस्थान की सुश्री अवनी लेखरा को शूटिंग 10 मी0 में स्वर्ण पदक व शूटिंग 50 मी0 मंे कांस्य पदक जीतने पर 02 करोड़ रुपये, हरियाणा के श्री सुमित अंटिल को एथलेटिक्स (जेवलिन थ्रो) में स्वर्ण पदक जीतने पर 02 करोड़ रुपये, हरियाणा के श्री मनीष नरवाल को शूटिंग 50 मी0 में स्वर्ण पदक जीतने पर 02 करोड़ रुपये, ओडिसा के श्री प्रमोद भगत को बैडमिण्टन में स्वर्ण पदक जीतने पर 02 करोड़ रुपये, राजस्थान के श्री कृष्णा नागर को बैडमिण्टन में स्वर्ण पदक जीतने पर 02 करोड़ रुपये, गुजरात की सुश्री भविना पटेल को टेबल टेनिस में रजत पदक जीतने पर 1.50 करोड़ रुपये, हिमाचल प्रदेश के श्री निषाद कुमार को एथलेटिक्स (हाईजम्प) में रजत पदक जीतने पर 1.50 करोड़ रुपये, राजस्थान के श्री देवेन्द्र झाझरिया को एथलेटिक्स (जेवलिन थ्रो) में रजत पदक जीतने पर 1.50 करोड़ रुपये, हरियाणा के श्री योगेश कठुनिया को एथलेटिक्स (डिस्कस थ्रो) में रजत पदक जीतने पर 1.50 करोड़ रुपये, हरियाणा के श्री हरविन्दर सिंह को तीरंदाजी में कांस्य पदक जीतने पर 01 करोड़ रुपये, तथा उत्तराखण्ड के श्री मनोज कुमार को बैडमिण्टन में कांस्य पदक जीतने पर 01 करोड़ रुपये, गौतमबुद्धनगर उ0प्र0 के श्री प्रवीण कुमार को एथलेटिक्स (हाईजम्प) में रजत पदक जीतने पर 04 करोड़ रुपये, तमिलनाडु के श्री मरियप्पन थंगावेलु को एथलेटिक्स (हाईजम्प) में रजत पदक जीतने पर 1.50 करोड़ रुपये, गौतमबुद्धनगर उ0प्र0 के श्री सुहास एल0वाई0 को बैडमिण्टन में रजत पदक जीतने पर 04 करोड़ रुपये, हरियाणा के श्री सिंघराज अधाना को शूटिंग 50 मी0 में रजत पदक व शूटिंग 10 मी0 में कांस्य पदक जीतने पर 1.50 करोड़ रुपये, राजस्थान के श्री सुंदर सिंह गुर्जर को एथलेटिक्स (जेवलिन थ्रो) में कांस्य पदक जीतने पर 01 करोड़ रुपये, बिहार के श्री शरद कुमार को एथलेटिक्स (हाईजम्प) में कांस्य पदक जीतने पर 01 करोड़ रुपये, की धनराशि दी गयी। इस प्रकार, पदक विजेताओं को कुल 31 करोड़ रुपये की पुरस्कार राशि वितरित की गयी।
मुख्यमंत्री जी द्वारा उ0प्र0 के ऐसे खिलाड़ियांे जिनके द्वारा टोक्यो पैरालम्पिक गेम्स 2020 में प्रतिभाग किया गया, लेकिन वह बेहतर प्रदर्शन के बावजूद पदक नहीं जीत पाये, ऐसे खिलाड़ियांे को भी प्रोत्साहन स्वरूप धनराशि वितरित की गयी, जिसमें गौतमबुद्धनगर के श्री वरुण सिंह भाटी व इटावा के श्री अजीत सिंह को पैरा एथलेटिक्स में प्रतिभाग करने पर 25-25 लाख रुपये, सम्भल के श्री दीपेन्दर सिंह व बागपत के श्री आकाश को पैरा शूटिंग में प्रतिभाग करने पर 25-25 लाख रुपये, मेरठ के श्री विवेक चिकारा व मुजफ्फरनगर की सुश्री ज्योति को पैरा आर्चरी में प्रतिभाग करने पर 25-25 लाख रुपये की धनराशि वितरित की गयी। इस प्रकार, प्रदेश के 06 प्रतिभागी खिलाड़ियों को कुल 1.50 करोड़ रुपये की धनराशि वितरित की गयी।
कार्यक्रम के दौरान ओलम्पिक व पैरालम्पिक पर बनायी गयी डॉक्यूमेण्ट्री प्रदर्शित की गई। कार्यक्रम में मूक बधिर व्यक्तियों के लिए विशेष व्यवस्था के तहत सत्य नाथ वाणी केन्द्र मूक बधिर स्कूल की अध्यापिका मुरादाबाद निवासी पूनम कुमारी ने मूक बधिर व्यक्तियों के लिए उन्हीं की शब्दावली में कार्यक्रम के प्रत्येक चरण का प्रस्तुतीकरण किया, जिससे उन्हें भी समझने में सहजता हो और वह कार्यक्रम को देख व समझ पाये। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय की ओर से यह व्यवस्था की गयी। कार्यक्रम के समापन पर राष्ट्रगान हुआ।
इस अवसर पर जलशक्ति राज्यमंत्री श्री दिनेश खटीक, अपर मुख्य सचिव गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी, आयुक्त मेरठ मंडल श्री सुरेन्द्र सिंह, जिलाधिकारी श्री के0 बालाजी सहित अन्य अधिकारी व उद्यमी उपस्थित रहे।

Loading...
loading...

Related Articles

Back to top button
Live TV