LIVE TVMain Slideखबर 50देश

देश के कोने-कोने से काशी विश्वनाथ धाम की भव्यता निहारने पहुंचे हजारों साधु-संत

बाबा विश्वनाथ धाम का चमकता शिखर, मां गंगा के सजे घाट, जगह- जगह सजे तोरणद्वार, जयघोष करती
हुई शिवभक्तों की भीड़, देशभर के साधु-संतों का जमावड़ा, काशी की पावन धरा पर दंडवत प्रधानमंत्री व
राज्यों के दर्जन भर मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, नेता और अफसर। बाबा विश्वनाथ की काशी सोमवार को ऐसे
ही अद्भुत और अलौकिक रूप में दिखी।
काशी की गलियों से लेकर घर, मुहल्ले और सड़क तक सब शिवमय था। काशी विश्वनाथ धाम से लेकर
छोटे-छोटे शिवालयों और मंदिरों में जैसे खुद बाबा विश्वनाथ का प्रतिरूप निखर रहा था। मंदिरों की यह
अद्भुत छटा मन को मोह रही थी।
काल भैरव के दरबार में लगाई हाजिरी
सोमवार की सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगभग साढ़े दस बजे काशी पहुंचे। सबसे पहले प्रधानमंत्री ने काशी
के कोतवाल काल भैरव के दरबार में हाजिरी लगाई। इसके बाद खिड़किया घाट से क्रूज पर सवार होकर
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ललिता घाट पहुंचे।
पीएम मोदी ने काशीपुराधिपति का किया अभिषेक
श्री काशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण के पूर्व सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ललिताघाट पर गेरूआ
वस्त्र धारण कर पवित्र गंगा में आस्था की डुबकी लगाई। गंगा में पुष्प अर्पित कर भगवान सूर्य को जल देने के
बाद प्रधानमंत्री पूरे आस्था के साथ कलश में गंगा जल भर पैदल ही जेटी पर पहुंचे। यहां गीला वस्त्र बदलने
के बाद नया वस्त्र परम्परागत धोती, कुर्ता, रेशमी दुपट्टा धारण कर प्रधानमंत्री कार से गंगाजल कलश लेकर
मंदिर चौक तक गये। फिर डमरूओं के नाद के बीच लोगों का अभिवादन स्वीकार करते हुए बाबा विश्वनाथ
के गर्भगृह में हाजिरी लगाई।
अपने संकल्प को मूर्त रूप लेने पर प्रधानमंत्री ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच बेहद खास रेवती नक्षत्र और रवि
महायोग में आदि विश्वेश्वर के पावन ज्योर्तिलिंग पर गंगा जल सहित पवित्र नदियों के जल से जलाभिषेक
किया। उनके प्रति अपार आस्था दिखाई। श्री काशी विद्वत परिषद के मार्गदर्शन में मंदिर के अर्चक पं.श्रीकांत

Loading...

मिश्र, डॉ नागेन्द्र पांडेय, पं.ओमप्रकाश मिश्र आदि ने मंत्रोच्चार के बीच बाबा का षोडशोपचार पूजन प्रारम्भ
कराया। प्रधानमंत्री ने बाबा से राष्ट्र उन्नति, विश्व कल्याण, के लिए मानस प्रार्थना की।
इस कालखंड में लोकार्पण सर्वोत्तम
गौरतलब है कि धाम के लोकार्पण का शुभ मुहूर्त अयोध्या में श्री राम मंदिर निर्माण शिलान्यास के लिए मुहूर्त
निकालने वाले आचार्य गणेश्वर शास्त्री द्रविण ने ही तय किया है। आचार्य द्रविण ने धाम लोकार्पण के शुभ
मुहूर्त के बारे में कहा है कि विक्रम संवत 2078 शालिवाहनशक,1943 शुक्ल पक्ष दशमी तिथि सोमवार के दिन
रेवती नक्षत्र और श्लेषा नाड़ी का काल 20 मिनट का है। इसी कालखंड में लोकार्पण सर्वोत्तम है। इस योग में
धार्मिक कार्य होने से देश और समाज का सौभाग्य बढ़ेगा।

Loading...
loading...

Related Articles

Back to top button
Live TV