LIVE TVMain Slideखबर 50देशप्रदेशसाहित्य

कोरबा जिले के स्कूल, आंगनबाड़ी, अस्पताल सहित गांवों में मिलेगा पीने का साफ पानी

 कलेक्टर श्रीमती रानू साहू की अध्यक्षता में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जल जीवन मिशन के अंतर्गत गठित जिला जल एवं स्वच्छता मिशन की बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में कलेक्टर श्रीमती साहू ने जल जीवन मिशन के अंतर्गत रेट्रोफिटिंग, ऑनलाईन निविदाओ, निविदाओं की स्थिति, पाईप लाईन के माध्यम से हर घर जल और पेयजल स्त्रोतो से जल नमूनों के परीक्षण आदि के संबंध में जानकारी ली। कलेक्टर ने बैठक में कहा कि जल जीवन मिशन का उद्देश्य हर घर में नल के माध्यम से पीने का साफ पानी पहुंचाना है। उन्होंने जिले के सभी स्कूलों, आंगनबाड़ी, अस्पतालों सहित गांवों में पीने के साफ पानी उपलब्ध कराने के लिए नल कनेक्शन के काम को समय सीमा में पूरा करने के निर्देश दिए। बैठक में कलेक्टर ने कहा कि लोगों को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने के लिए विभिन्न कार्य किये जा रहे है। इन सभी कार्यो को गुणवत्ता के साथ निर्धारित अवधि में पूरा किया जाये। बैठक में कलेक्टर श्रीमती साहू ने जल जीवन मिशन के अंतर्गत किये जा रहे कार्यो के संचालन व संधारण के संबंध में भी जानकारी ली। बैठक में जल जीवन मिशन के अंतर्गत विभिन्न कार्यों के लिए प्रशासकीय स्वीकृति का अनुमोदन किया गया। इसके अतिरिक्त सोलर आधारित नलजल प्रदाय योजनाओ में पाईप लाईन एवं घरेलू नल कनेक्शन कार्य के लिए भी स्वीकृति दी गई। वीडियो काफं्रेसिंग के माध्यम से आयोजित बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री नूतन कंवर, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन अभियंता एवं जिला जल जीवन मिशन के सचिव श्री अनिल कुमार, सहायक अभियंता क्रेडा श्री एन.के.राय, जिला शिक्षा अधिकारी श्री जी.के.भारद्वाज, हसदेव बरॉज बांगो माचाडोली के कार्यपालन अभियंता सहित अन्य विभागों के अधिकारीगण शामिल हुए।
पीएचई के ईई श्री अनिल कुमार ने बताया कि जल जीवन मिशन अन्तर्गत जिले के एक हजार 302 शालाओं, 875 आंगनबाड़ी केन्द्रों, 135 स्वास्थ्य केंद्रों एवं 143 आश्रमों में पीने के पानी उपलब्ध कराने के लिए पंप, टंकी, पाईप लाईन एवं नल लगाने का काम पूरा किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि जल जीवन मिशन के अन्तर्गत शेष कार्यों को तेजी से किया जा रहा हैै। श्री अनिल कुमार ने बताया कि जिले के 412 ग्राम पंचायतों में पानी गुणवत्ता परीक्षण के लिए फील्ड टेस्ट किट उपलब्ध कराया गया है। किट मिल जाने से ग्रामीण क्षेत्रों में पानी की गुणवत्ता आसानी से जांची जा रही है। उन्होंने बताया कि बैठक में 22 सिंगल विलेज नल जल योजनाओ, 20 सोलर आधारित मिनी नलजल योजनाओं और एक रेट्रोफिटिंग योजना की स्वीकृति प्रदान की गई। कटघोरा उपखंड की प्रयोगशाला को एनएबीएल मापदंड के अनुरूप विकसित करने के लिए आवश्यक ग्लासवेयर, रसायन एवं उपकरणों आदि के लिए भी प्रशासकीय स्वीकृति का अनुमोदन किया गया। ई.ई. पीएचई ने बताया कि जल जीवन मिशन अन्तर्गत एकल ग्राम नलजल प्रदाय योजना के तहत कुल 35 योजनाओं के कार्यादेश जारी किये गये हैं। इसके तहत 11 हजार 468 घरेलू नल कनेक्शन स्वीकृत किए गये हैं। इसी प्रकार जल जीवन मिशन अंतर्गत रेट्रोफिटिंग नलजल प्रदाय योजना के तहत 38 योजनाओं के कार्यादेश जारी किये गये हैं। इसके तहत 19 हजार 879 घरेलू नल कनेक्शन स्वीकृत किए गये हैं।

Loading...
Loading...
loading...

Related Articles

Back to top button
Live TV