दिल्ली एनसीआरप्रदेश

दाती महाराज के आश्रम से बच्चियों के गायब होने की खबरों से बढ़ी मुश्किलें

25 साल की युवती से दुष्कर्म के आरोप में घिरे दाती महाराज की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। दाती महाराज को राजस्थान राज्य महिला आयोग की जांच का सामना करना पड़ेगा। दाती महाराज के आश्रम से बच्चियों के गायब होने की खबरों को देखते हुए राजस्थान राज्य महिला आयोग ने अपनी एक टीम दाती महाराज के पाली स्थित आश्रम में भेजने का किया है। टीम बृहस्पतिवार को आश्रम पहुंचेगी। दाती महाराज से दुष्कर्म के मामले में दिल्ली पुलिस भी पूछताछ कर चुकी है।

Loading...

आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने कहा है कि आयोग की तीन सदस्यीय टीम दाती महाराज के आलावास स्थित आश्रम में जांच के लिए जाएगी। वहां रहने वाली बच्चियों और हालात का जायजा लिया जाएगा। यदि कुछ भी नियमसंगत नहीं मिला तो कार्रवाई की जाएगी।

सुमन शर्मा ने कहा है कि आयोग ने एक टीम का गठन कर दिया है। इसमें एक महिला आयोग सदस्य और एक प्रशासनिक अधिकारी समेत तीन लोग शामिल हैं। यह टीम दाती महाराज के आश्रम जाकर विभिन्न बिंदुओं पर जांच करेगी। आयोग सदस्य सुषमा कुमावत ने बताया कि आश्रम में रह रही बच्चियों से बात की जाएगी। उनके साथ किस तरह का व्यवहार किया जा रहा है, इसका पता लगाया जाएगा। आश्रम के कर्मचारियों और आसपास के लोगों से भी टीम बात कर वस्तुस्थिति जानने का प्रयास करेगी। 

जांच की कड़ी में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच 16 जून को पीड़ित युवती को लेकर दाती महाराज के पाली (राजस्थान) स्थित आश्रम पहुंची थी। युवती का आरोप है कि 25, 26 और 27 मार्च 2016 को उसके साथ दाती महाराज और उसके सहयोगियों ने यहीं सामूहिक दुष्कर्म किया था। राजस्थान की निवासी एक 25 वर्षीय युवती ने स्वयंभू बाबा दाती महाराज और उसके चेलों पर उसके साथ बार-बार सामूहिक दुष्कर्म का आरोप लगाया है।

आश्रम का रजिस्ट्रेशन दो साल पूर्व समाप्त होने की बात आयोग की टीम के सामने आई है। आश्रम से जुड़े लोगों को भविष्य में पूछताछ के लिए जयपुर बुलाया जाएगा। इधर आश्रम में बुधवार को भी शांति रही। कानून-व्यवस्था के लिहाज से एक दर्जन पुलिसकर्मियों को आश्रम के आसपास तैनात किया गया है।

आरोप है कि राजस्थान निवासी 25 वर्षीय युवती के साथ न केवल शनिधाम मंदिर के संस्थापक दाती महाराज ने सालों तक दुष्कर्म किया, बल्कि उसके तीन सौतेले भाई भी उन्हें हवस का शिकार बनाते रहे। युवती इन्हें दाती के खास शिष्य समझती थी, मगर क्राइम ब्रांच की जांच में यह जानकारी सामने आने के बाद उन्हें सच का पता चला। जांच के दौरान हुए इस सनसनीखेज खुलासे से पुलिस भी हैरान है।

जांच में पता चला, दाती महाराज के सौतेले नहीं सगे भाई हैं तीनों

क्राइम ब्रांच के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, दाती महाराज के आरोपित सौतेले भाइयों के नाम अनिल, अशोक और अर्जुन हैं। ये तीनों सगे भाई हैं और दाती महाराज के दिल्ली तथा राजस्थान स्थित आश्रम, कॉलेज और अस्पताल के प्रबंधन का कामकाज देखते हैं। इसके अलावा ये तीनों रुपयों का लेखाजोखा भी रखते हैं। क्राइम ब्रांच ने दाती व उसके तीनों सौतेले भाइयों को नोटिस भेजकर बीते शनिवार को ही जांच में शामिल होने को कहा था, लेकिन कोई भी जांच में शामिल नहीं हुआ। 

संयुक्त आयुक्त आलोक कुमार के मुताबिक, जो आरोपित जांच में शामिल नहीं होंगे, उन्हें दोबारा नोटिस भेजा जाएगा। इधर, क्राइम ब्रांच ने पिछले पांच दिनों के दौरान प्रारंभिक जांच में काफी सुबूत जुटा लिए हैं।

आसोला गांव स्थित दाती के आश्रम के दो कमरों और पाली स्थित आश्रम के दो कमरों में ही दाती और उसके तीनों सौतेले भाई युवती के साथ दरिंदगी करते रहे। इन चारों कमरों का मुआयना कर फर्द निशानदेही तैयार कर ली गई है। साथ ही डीवीआर (डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर) और दस्तावेज भी जब्त किए गए हैं। 

पीड़ित युवती को पुलिस ने सुरक्षा मुहैया कराई

बता दें कि दुष्कर्म पीड़ित युवती दक्षिण दिल्ली में परिवार के साथ रहती है। परिवार में माता-पिता, दो बहन व एक भाई है। दोनों बहनों की शादी हो चुकी है। वहीं, दक्षिण पूर्व जिला अधिकारियों के अनुसार पीड़ित युवती व परिवार को सुरक्षा मुहैया करा दी गई है। सादी वर्दी में पुलिसकर्मियों की तैनाती के अलावा बीट स्टाफ भी तैनात कर दिया गए हैं। पुलिस ने बताया है कि मजिस्ट्रेट के सामने पीड़िता का बयान दर्ज करा दिया गया है। पुलिस ने कहा कि आरोपी देश छोड़कर फरार न हो जाए, यह सुनिश्चत करने के लिए लुकआउट सर्कुलर जरी किया गया है।

Loading...
loading...

Related Articles

Back to top button
Live TV