Main Slideबड़ी खबर

कांग्रेस नेता नटवर सिंह बोले-भारत का बटवारा हुआ मुझे खुशी, मुस्लिम लीग देश को कामकाज नहीं करने देती

पूर्व विदेश मंत्री एवं कांग्रेस नेता नटवर सिंह ने रविवार को कहा कि उन्हें खुशी है कि भारत का बंटवारा हुआ, नहीं तो ‘मुस्लिम लीग’ देश को चलने नहीं देती तथा ‘‘सीधी कार्रवाई के दिन” और भी हो सकते थे. उल्लेखनीय है कि मुहम्मद अली जिन्ना नीत मुस्लिम लीग ने अलग राष्ट्र बनाने की मांग को लेकर ‘सीधी कार्रवाई’ का आह्वान किया था

Loading...

राज्यसभा सदस्य एमजे अकबर की नई किताब ‘गांधीज हिंदूइज्म : द स्ट्रगल अगेंस्ट जिन्नाज इस्लाम’ का विमोचन पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने किया। इस अवसर पर रविवार को कांग्रेस नेता नटवर सिंह ने कहा कि वह भारत का विभाजन होने से खुश हैं। क्योंकि अगर भारत का बंटवारा नहीं होता तो और भी डायरेक्ट एक्शन (हिंदुओं का कत्लेआम) होते।

ऐसा पहली बार जिन्ना (मुहम्मद अली जिन्ना) के समय में 16 अगस्त (1946) को हुआ था, जब कोलकाता (तब कलकत्ता) में हजारों हिंदुओं की हत्या कर दी गई थी। और उसके बाद उसके जवाब में बिहार में हजारों मुसलमानों की हत्या कर दी गई थी। उन्होंने कहा कि ऐसा भी हो सकता था कि मुस्लिम लीग ने देश को कामकाज करने ही नहीं दिया होता।

मुस्लिम लीग पर अपनी राय रखने के लिए नटवर सिंह ने 2 सितंबर 1946 में गठित भारत की अंतरिम सरकार का उदाहरण दिया. उन्होंने बताया कि किस तरह से मुस्लिम लीग ने शुरुआत में वायसराय की कार्यकारिणी परिषद के उपाध्यक्ष जवाहरलाल नेहरू की कैबिनेट में शामिल होने से मना कर दिया. बाद में उन्होंने सिर्फ अपने प्रस्तावों को खारिज करने के लिए हिस्सा लिया.

सिंह ने कहा, इस तरह कल्पना कर सकते हैं कि अगर भारत का बंटवारा नहीं हुआ होता, तो आज मुस्लीम लीग हमारे लिए काम करना बहुत मुश्किल कर देती. तब एक हफ्ते में ही सरकार की स्थिति कमजोर हो जाती.

नटवर सिंह ने गांधी को बहुत महान और जिन्ना को बहुत मुश्किल व्यक्ति बताया. 88 वर्षीय सिंह ने कहा कि उनके साथ रहना नामुमकिन था, क्योंकि गांधीजी के मानक बहुते ऊंचे थे वहीं जिन्ना का स्वभाव काफी सख्त था, जिनके साथ शायद मैं नहीं रह सकता था. उन्होंने वहां मौजूद लोगों से कहा कि वह कार्यक्रम में एकमात्र ऐसे शख्स हैं जिन्होंने गांधी को जीवित देखा है.

Loading...
loading...

Related Articles

Back to top button
Live TV