Main Slideमध्य प्रदेश

नर्मदा परिक्रमावासी अमृतलाल वेगड़ का जबलपुर में हुआ निधन

नर्मदा परिक्रमावासी अमृतलाल वेगड़ का शुक्रवार 10.15 बजे जबलपुर में निधन हो गया। वे 90 साल के थे। अमृतलाल वेगड़ को अस्थमा की समस्या थी, कुछ समय पहले उनका प्रोस्टेट का ऑपरेशन भी हुआ था, उसके बाद उनका स्वास्थ्य बिगड़ता गया। वे अपने पीछे पत्नी कांता वेगड़ और 5 पुत्र शरद, दिलीप, नीरज, अमित, राजीव वेगड़ को शोकाकुल छोड़ गए हैं। वेगड़ जी की अंतिम यात्रा उनके निवास नेपियर टाउन से शाम 4 बजे ग्वारीघाट जाएगी।

Loading...

अमृतलाल वेगड़ का जन्म 3 अक्टूबर 1928 में जबलपुर में हुआ। 1948 से 1953 तक शान्त‍िन‍िकेतन में उन्होंने कला का अध्ययन क‍िया। वेगड़ जी ने खंडों में नर्मदा की पूरी परिक्रमा की। उन्होंने नर्मदा पदयात्रा वृत्तांत की तीन पुस्तकें लिखीं, जो ह‍िन्दी, गुजराती, मराठी, बंगला अंग्रेजी और संस्कृत में प्रकाश‍ित हुई हैं।

ShivrajSingh Chouhan

@ChouhanShivraj

मां नर्मदा के जीवनदायनी असीमित स्वरूप को रंगों और शब्दों में अभिव्यक्त करने वाले मूर्धन्य साहित्यकार श्री अमृतलाल वेगड़ को श्रद्धांजलि। आपका जाना पर्यावरण, साहित्य और नर्मदा सेवकों सहित देश के लिए अपूरणीय क्षति है। ईश्वर से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें।

वे गुजराती और ह‍िन्दी में साह‍ित्य अकादमी पुरस्कार एवं महापंड‍ित राहुल सांकृत्यायन पुरस्कार जैसे अनेक राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित हुए थे। अमृतलाल वेगड़ ने नर्मदा और सहायक नदियों की 4000 क‍िलोमीटर से भी अध‍िक की पदयात्रा की। वे पहली बार वर्ष 1977 में 50 वर्ष की अवस्था में नर्मदा की पदयात्रा में न‍िकले और 82 वर्ष की आयु तक इसे जारी रखा। ‘सौंदर्य की नदी नर्मदा’ उनकी प्रस‍िद्ध पुस्तक है। ‘अमृतस्य नर्मदा’ और ‘तीरे-तीरे नर्मदा’ तीन पुस्तकें हैं। चौथी ‘नर्मदा तुम क‍ितनी सुंदर हो’ वर्ष 2015 में प्रकाश‍ित हुई।

Loading...
loading...

Related Articles

Back to top button
Live TV