Main Slideट्रेंडिगदेश

अमित शाह की कोलकाता में रैली से पहले शुरू हुआ पोस्टर वॉर

सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस असम में एनआरसी के मसौदे के प्रकाशन के विरोध में शनिवार को पूरे राज्य में रैलियां निकालेगी। वहीं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी कोलकाता में एक जनसभा को संबोधित करेंगे। इस बीच दोनों पार्टियों के बीच पोस्टर वॉर भी शुरू हो गया है। टीएमसी कार्यकर्ताओं ने जगह-जगह भाजपा के विरोध में पोस्टर भी लगाए हैं, जिसपर ‘भाजपा बंगाल छोड़ो’ और ‘बंगाल विरोधी भाजपा वापस जाओ’ लिखा है। ये पोस्टर अमित शाह की रैली वाली जगह पर भी लगाए गए हैं। 

Loading...

वहीं, पश्चिमी मिदनापुर के नयाबसात इलाके में कुछ अज्ञात बदमाशों द्वारा शुक्रवार रात एक बस पर हमले की भी सूचना है। ये बस अमित शाह की रैली में शामिल होने के लिए भाजपा कार्यकर्ताओं को ले जाने के लिए खड़ी थी। हालांकि इस घटना में किसी के हताहत होने की कोई सूचना नहीं है। चंद्रकोना टाउन पुलिस चौकी पर मामला दर्ज करा दिया गया है।  

भाजपा ने आरोप लगाया है कि ये पोस्टर टीएमसी कार्यकर्ताओं ने लगाए हैं। हालांकि टीएमसी ने भाजपा के इन आरोपों से इनकार किया है। टीएमसी के महासचिव और बंगाल शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी का कहना है कि उनकी पार्टी का भाजपा विरोधी पोस्टर से कोई लेना देना नहीं है। 

पश्चिम बंगाल के भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा ‘यह दिखाता है कि टीएमसी हमारी रैली से कितना डर गई है। बंगाल में अब टीएमसी के गिनती के दिन बचे हैं। राज्य के लोग भाजपा के अच्छे शासन का इंतजार कर रहे हैं। 

वहीं, भाजपा के एक अन्य नेता ने कहा कि बंगाल टीएमसी की निजी संपत्ति नहीं है। उसे भाजपा को बंगाल से बाहर निकालने की डिमांड करने का कोई हक नहीं है। उन्होंने कहा कि यह आने वाले वक्त में राज्य की जनता बताएगी कि राज्य में कौन रहेगा और कौन बाहर होगा।  

इससे पहले तृणमूल कांग्रेस के महासचिव पार्थ चटर्जी ने शुक्रवार को यह कहा था कि कोलकाता को छोड़कर राज्य के अन्य हिस्सों में पार्टी रैलियों का आयोजन करेगी। उन्होंने असम की भाजपा सरकार पर एनआरसी मसौद से जानबूझ कर बंगालियों के नाम बाहर रखने का आरोप लगाया था। इस दौरान तृणमूल नेता ने उन बंगालियों के नामों को एनआरसी में शामिल करने की मांग की। 

Loading...
loading...

Related Articles

Back to top button
Live TV