: पूर्वी भारत में विकराल हुई बाढ़, असम-बिहार में अब तक 15 की मौत, 44 लाख लोग प्रभावित

पटना/गुवाहाटी 
मॉनसूनी बारिश और पड़ोसी देश नेपाल से आए बाढ़ के पानी के मिलेजुले असर से देश के कई राज्‍यों में बाढ़ का संकट पैदा हो गया है। असम के अधिकांश जिले ब्रह्मपुत्र और उसकी सहायक नदियों की वजह से बाढ़ग्रस्‍त हो चुके हैं। बिहार में कोसी बैराज के सभी 56 गेटों को खोल देने के बाद राज्य में बाढ़ की स्थिति रविवार को और भयावह हो गई है। बाढ़ की वजह से बिहार में 4 और असम में 11 लोगों की अब तक मौत हो चुकी है। पश्चिम बंगाल के उत्‍तरी जिलों, यूपी के पूर्वी जिलों में भी नदियों का जलस्‍तर तेजी से बढ़ने से निचले इलाकों में पानी भर गया है। बारिश ने पंजाब और हरियाणा के बड़े हिस्सों को भी प्रभावित किया है।

बिहार में कोसी बैराज के सभी गेट खुले 
कोसी बैराज के सभी 56 गेटों को शनिवार रात खोल देने के बाद बिहार में बाढ़ की स्थिति रविवार को और भयावह हो गई है। पानी खतरनाक स्‍तर तक पहुंच गया है। दूसरी तरफ नेपाल में लगातार बारिश जारी है। प्रभावित इलाकों में मोबाइल और बिजली सेवाएं बाधित हुई हैं। मौसम विभाग ने सोमवार दोपहर तक भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है।

भारी बारिश की वजह से बिहार की तमाम नदियों में बाढ़ का पानी 600 और गांवों में फैल चुका है। ये गांव सीतामढ़ी, शिवहर, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, अररिया, किशनगंज, सुपौल, दरभंगा और मुजफ्फरपुर जिलों के 55 ब्‍लॉक क्षेत्रों के 352 पंचायतों के तहत आते हैं। उत्‍तरी बिहार के इन नौ जिलों के करीब 18 लाख लोग बाढ़ की आपदा झेल रहे हैं।

सीतामढ़ी सबसे अधिक प्रभावित 
इन सभी जिलों में सीतामढ़ी सबसे अधिक प्रभावित है जहां 11 लाख लोगों पर बाढ़ का असर पड़ा है। इसके बाद अररिया का स्‍थान है जहां 5 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। आपदा प्रबंधन विभाग के अधिकारी ने हमारे सहयोगी टाइम्‍स ऑफ इंडिया से रविवार शाम को जानकारी देते हुए कहा, ‘अररिया, शिवहर और किशनगंज जिलों में बाढ़ की वजह से अब तक चार लोगों की मौत हुई है। इनमें से दो मौतें अररिया में हुई हैं जहां आठ ब्‍लॉकों की 83 पंचायतों पर बाढ़ का सबसे ज्‍यादा असर हुआ है।’

छह जिलों में 152 राहत शिविर खोले
अधिकारियों ने छह जिलों में 152 राहत शिविर खोले हैं जहां करीब 45 हजार लोग शरण लिए हुए हैं। आपदा प्रबंधन विभाग के मुताबिक, बाढ़ प्रभावित परिवारों को भोजन उपलब्‍ध कराने के लिए बाढ़ग्रस्‍त नौ जिलों में से सात में 251 सार्वजनिक रसोईघर चलाए जा रहे हैं।

नैशनल डिजास्‍टर रिस्पॉन्स फोर्स (एनडीआरएफ) और स्‍टेट डिजास्‍टर रिस्‍पॉन्‍स फोर्स (एसडीआरएफ) की कुल 19 टीमें बाढ़ग्रस्‍त इलाकों में बचाव कार्य में हिस्‍सा ले रही हैं। सबसे ज्‍यादा चार टीमें सीतामढ़ी जिले में तैनात की गई हैं, इसके बाद मधुबनी और दरभंगा में तीन-तीन टीमें काम कर रही हैं।

सीएम नीतीश कुमार ने किया हवाई सर्वे
इससे पहले रविवार को बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने पटना स्थित आवास पर वरिष्‍ठ अधिकारियों के साथ बैठक करके प्रदेश में बाढ़ की स्थिति की समीक्षा की। मुख्‍यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि कि वे सतर्क रहे और 24 घंटे बिहार में बाढ़ के लिए जिम्‍मेदार कारकों पर नजर रखें।

नी‍तीश कुमार ने आपदा प्रबंधन विभाग से कहा है कि राहत कैंप खोले जाने के लिए सभी जरूरी कदम उठाएं ताकि प्रभावित लोगों को शरण दी जा सके। बाद में मुख्‍यमंत्री पांच बाढ़ग्रस्‍त जिलों दरभंगा, मधुबनी, सीतामढ़ी, शिवहर और पूर्वी चंपारण का हवाई सर्वे भी किया। नीतीश ने बचाव और राहत कार्य में तेजी लाने के निर्देश भी दिए।

असम में बाढ़ से 11 मौतें 
असम में बाढ़ की वजह से अब तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है। बाढ़ के कारण राज्य के 28 जिलों के 26.6 लाख नागरिक प्रभावित हुए हैं। बाढ़ के पानी की वजह से लुमडिंग-बदरपुर पर्वतीय खंड में रेल सेवाएं नियंत्रित करनी पड़ीं हैं। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) के अनुसार प्रभावित जिलों में धेमाजी, लखीमपुर, बिस्वनाथ, नलबाड़ी, चिरांग, गोलाघाट, माजुली, जोरहाट, डिब्रूगढ़, नगांव, मोरीगांव, कोकराझार, बोंगाईगांव, बक्सा, सोनितपुर, दर्रांग और बारपेटा शामिल हैं। बारपेटा में हालत सबसे ज्‍यादा गंभीर है।

यूपी में तेजी से बढ़ रहा नदियों का जलस्‍तर 
उत्तर प्रदेश में पिछले कई दिनों से हुई लगातार बारिश से कई जिलों में बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं। नदियों का जलस्तर बढ़ गया है, जिससे दर्जनों गांव बाढ़ से घिर गए हैं। अयोध्या जिले में सरयू नदी का जलस्तर चेतावनी का निशान पार कर गया है।

उत्‍तरी बंगाल में बाढ़ जैसे हालात 
लगातार बारिश से उत्‍तरी बंगाल में निचले इलाकों में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई है। पहाड़ी क्षेत्रों में भूस्‍खलन होने का खतरा बढ़ गया है। लगातार बारिश से राज्‍य के दार्जिलिंग, कलिंमपोंग, जलपाइगुड़ी, कूचबिहार, अलीपुरदुआर जिलों में हालात ज्‍यादा खराब है।

अंबाला में कई घरों में घुसा पानी
हरियाणा के अंबाला में भी भारी बारिश के बाद गलियों और घरों में पानी घुस गया। पिछले कुछ दिनों से यहां भारी बारिश हो रही है, जिसने आम लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं।

Related Articles

Live TV
Close