LIVE TVMain Slideउत्तर प्रदेशट्रेंडिगदेश

मुख्यमंत्री छठ पूजा पर गोमती तट पर आयोजित कार्यक्रम में सम्मिलित हुए

मुख्यमंत्री छठ पूजा पर गोमती तट पर आयोजित कार्यक्रम में सम्मिलित हुए

Loading...

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी कहा कि हमारे पर्व प्रकृति एवं परमात्मा से जोड़ने का एक माध्यम हैं। प्रकृति पर आस्था व उससे जुड़ाव भारतीय संस्कृति की परम्परा रही है। उन्होंने कहा कि यदि हमारा पर्यावरण शुद्ध एवं संतुलित रहेगा तो पर्व एवं त्योहारों को हम मनाने में सफल होंगे।
मुख्यमंत्री जी आज यहां गोमती तट पर छठ पूजा के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने प्रदेशवासियों को सूर्य उपासना के महापर्व छठ पूजा की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए कहा कि छठ पूजा एक कठिन व्रत है, जो अलग-अलग चरणों में सम्पन्न होता है। भोजपुरी समाज द्वारा छठ पर्व देश और दुनिया में पूरी आस्था, उमंग एवं हर्षाेल्लास के साथ मनाया जाता है। इस पर्व पर अस्ताचल एवं सूर्याेदय पर भगवान सूर्य देव को अर्घ्य दिया जाता है। कड़ी ठण्ड पर भी माताएं, बहनें प्राकृतिक व्यवस्था की पूजा करती हैं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि लोक आस्था से जुड़े पर्व एवं त्योहारों पर शासन एवं प्रशासन अपना पूर्ण सहयोग प्रदान कर रहा है। आम जनमानस के स्वास्थ्य, सुरक्षा एवं विकास के लिए प्रदेश सरकार पूरी तरह से तत्पर है। हमारे पर्व एवं त्योहार लोक आस्था के प्रतीक हैं तथा यह व्यक्तिगत आस्था के साथ ही पर्यावरणीय उन्नयन के भी माध्यम हैं। यदि हमारी नदियां व जलाशय प्रदूषित होंगी, तो इससे हमारी आस्था भी प्रभावित होगी।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि विगत 19 माह से देश और दुनिया वैश्विक महामारी कोरोना से प्रभावित है। विश्व के कई विकसित देशों में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़े हैं। किन्तु प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के मार्गदर्शन में देश एवं प्रदेश में कोरोना पूरी तरह से नियंत्रित है। कोरोना नियंत्रण में आमजन की सक्रिय सहभागिता रही है। उन्हांेने कहा कि मानव समाज को प्राकृतिक व्यवस्था के साथ संतुलन बनाकर चलना होगा, तभी हम अपनी लोक आस्था को अक्षुण्ण रख पाएंगे। उन्होंने कार्यक्रम के दौरान एक स्मारिका का विमोचन भी किया।
इस अवसर पर जल शक्ति मंत्री डॉ0 महेन्द्र सिंह, नगर विकास मंत्री श्री आशुतोष टण्डन, लखनऊ की महापौर श्रीमती संयुक्ता भाटिया, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं एम0एस0एम0ई0 श्री नवनीत सहगल, अखिल भारतीय भोजपुरी समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री प्रभुनाथ राय सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने कानपुर में नगर निगम स्थित इण्टीग्रेटेड कण्ट्रोल एण्ड कमाण्ड सेण्टर, (जीका वायरस) का निरीक्षण किया

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज कानपुर भ्रमण के दौरान नगर निगम स्थित इण्टीग्रेटेड कण्ट्रोल एण्ड कमाण्ड सेण्टर, (जीका वायरस) का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान जीका वायरस के मरीजों से उनके स्वास्थ्य के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की तथा कण्ट्रोल रूम द्वारा किए जा रहे कार्याें का अवलोकन किया। तत्पश्चात, उन्होंने के0डी0ए0 सभागार में जीका वायरस की रोकथाम के सम्बन्ध में जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। उन्होंने कहा कि जीका वायरस की रोकथाम के लिए और तेजी से कार्य करना होगा। इस बीमारी से बचाव हेतु व्यापक प्रचार-प्रसार कर जागरूकता लायी जाए, जिससे लोगों में भय न होने पाए।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जीका बीमारी से बचाव हेतु रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्युनिटी) को बनाए रखना आवश्यक है। जीका के दृष्टिगत प्रभावित क्षेत्र में गर्भवती महिलाओं की सैम्पलिंग करायी जाए। जीका वायरस के लिए एक डेडीकेटेट अस्पताल बनाया जाए, जिससे लोगों का बेहतर इलाज हो सके। उन्होंने जीका वायरस से बचाव हेतु लोगों को सर्तकता बरतने व आवश्यक रुप से मच्छरदानी का प्रयोग करने तथा बीमारी से बचाव हेतु लापरवाही नहीं करने का सुझाव दिया।

मुख्यमंत्री जी ने नगर निगम के प्रत्येक वॉर्ड हेतु नोडल अधिकारी नामित करने के लिए नगर आयुक्त को निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि पूरे कानपुर शहर में नियमित रुप से साफ-सफाई, सैनेटाइजेशन तथा फॉगिंग करायी जाए। इसके साथ ही, यह कार्य नगर पालिका परिषद एवं नगर पंचायत क्षेत्रों में भी किए जाएं। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को प्रभावित क्षेत्र सहित अन्य स्थानों में लोगों के घर व परिवार में जीका वायरस से बचाव हेतु ‘क्या करें तथा क्या न करें‘ के सम्बन्ध में जानकारी दिए जाने हेतु पोस्टर, पैम्फलेट का वितरण कराने के निर्देश दिए। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया कि डोर-टू-डोर सर्वे कर ज्यादा से ज्यादा लोगों के सैम्पल लेने का कार्य किया जाए। साथ ही, स्कूलों/कॉलेजों तथा तकनीकी शिक्षण संस्थाओं में शिक्षकों के साथ छात्र-छात्राओं को इस बीमारी से बचाव के सम्बन्ध में बैठक कर जानकारी दी जाए। उन्होंने जीका वायरस रोग के शीघ्र नियंत्रण हेतु सर्विलांस व सैम्पलिंग कार्य और अधिक तेजी से किए जाने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री जी ने जीका वायरस नियंत्रण कार्य हेतु किए गए उपायों एवं कार्याें के प्रति संतोष व्यक्त करते हुए जिला प्रशासन के अधिकारियों को निर्देशित किया कि नगर निगम, के0डी0ए0, स्वास्थ्य एवं चिकित्सा विभाग की टीमों के प्रतिदिन किए गए कार्याें की समीक्षा करें। उन्होंने जागरूकता कार्य में स्वयंसेवी संगठनों का भी सहयोग लिए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि घरों व अन्य जगहों में पानी एकत्र न होने पाए, क्योकि उस गन्दे पानी में मच्छर बैठेगा, तो लार्वा पैदा होगा। पानी की टंकियों की साफ-सफाई के साथ, उसे ढककर रखा जाना चाहिए।

मुख्यमंत्री जी ने बैठक में उपस्थित जनप्रतिनिधियों से जीका वायरस से बचाव हेतु किए जा रहे कार्याें के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करते हुए सुझाव आमंत्रित किए। उन्होंने मण्डलायुक्त एवं अपर निदेशक, स्वास्थ्य को मण्डल के जनपदों में भी जीका वायरस के नियंत्रण एवं रोकथाम हेतु सर्तकता बरतने के निर्देश दिए।

बैठक में जिलाधिकारी श्री विशाख जी0 ने मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया कि जीका वायरस की रोकथाम हेतु विभिन्न कार्य किए जा रहे हैं। सर्विलांस टीम, सैम्पलिंग कार्य, सैनेटाइजेशन के साथ-साथ डोर-टू-डोर सर्वे का कार्य किया जा रहा। सर्विलांस हेतु चिकित्सा विभाग की आशा कार्यकर्त्रियों तथा ए0एन0एम0 की 100 टीमें तैनात की गयी हैं। 09 नवम्बर, 2021 से 1,12,426 घरों में सर्विलांस किया गया तथा डोर-टू-डोर सर्वे के दौरान 853 व्यक्तियों की सैम्पलिंग की गयी है। इसके अलावा, 275 गर्भवती महिलाओं को चिन्हित किया गया है। सर्विलांस टीम द्वारा डोर-टू-डोर सर्वे के दौरान लोगों की ट्रैवेल हिस्ट्री की जानकारी भी ली गयी है। उन्होंने बताया सैम्पलिंग हेतु जिला सर्विलांस अधिकारी के नेतृत्व में 50 टीमें लगायी गयी हैं तथा 3,960 सैम्पल लिए गए हैं।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कानपुर में पिछले एक माह के अन्दर जीका वायरस से जुड़े 105 पॉजीटिव केस पाए गए हैं। इनमें से 17 मरीज निगेटिव हो चुके हैं। जीका वायरस से कानपुर के 05 वॉर्ड विशेष रूप से प्रभावित थे। स्थानीय जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग, नगर निगम के सामूहिक प्रयासों से एक अभियान चलाकर इसे नियंत्रित किया गया है। वायरस के नियंत्रण हेतु यहां अतिरिक्त टीमें भेजी गई हैं।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि निगरानी समितियां घर-घर जाकर लक्षणयुक्त व्यक्तियों को चिन्ह्ति कर रही हैं। सर्विलांस में तेजी लाते हुए मरीजों को अस्पताल भेजने तथा मेडिसिन किट उपलब्ध कराने में अपना योगदान कर रही हैं। उन्होंने कहा कि जो मरीज होम आइसोलेशन में रह रहे हैं, वे सेपरेट रूम में रहें, मच्छरदानी का प्रयोग करें तथा घर में साफ-सफाई रखें।

इसके उपरान्त, मुख्यमंत्री जी ने जीका वायरस से प्रभावित क्षेत्र श्यामनगर का भ्रमण किया तथा श्री लक्ष्मी नारायण मिश्रा, श्री सुरेश चन्द्रा, श्रीमती ऊषा, श्री आर0सी0 सचान, श्री संजय शुक्ला, श्री प्रशांत विश्नोई तथा श्री संजीव से वार्ता कर जानकारी प्राप्त की तथा रोग से बचाव हेतु सर्तकता बरतने पर जोर दिया।

बैठक में औद्योगिक विकास मंत्री श्री सतीश महाना, चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री सुरेश कुमार खन्ना, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री जय प्रताप सिंह, उच्च शिक्षा राज्यमंत्री श्रीमती नीलिमा कटियार सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण, अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा श्री आलोक कुमार तथा शासन-प्रशासन के अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Loading...
loading...

Related Articles

Back to top button
Live TV