LIVE TVMain Slideदेशमध्य प्रदेश

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना की तीसरी लहर आने की संभावना को लेकर लिया बड़ा फैसला

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना वायरस की तीसरी लहर आने की संभावना है. इससे बचाव के लिए संपूर्ण प्रदेश में सजगता और सतर्कता आवश्यक है.

Loading...

उन्होंने मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग और शत-प्रतिशत टीकाकरण सुनिश्चित कर कोरोना वायरस का सामना करने की नसीहत दी. उन्होंने उम्मीद जताई कि लॉकडाउन की स्थिति निर्मित न हो और अर्थव्यवस्था सामान्य रूप से चलती रहे. शिवराज ने कोरोना का सामना करने के लिए सभी व्यवस्थाएं चाकचौबंद होने का दावा किया.

मुख्यमंत्री ने कहा कि सुनिश्चित करने लिए सभी प्रभारी मंत्री इस हफ्ते प्रभार के जिलों और क्षेत्र के अस्पतालों का भ्रमण सुनिश्चित करें और ऑक्सीजन प्लांट, ऑक्सीजन बेड, ऑक्सीजन पाइप लाइन की व्यवस्था का आवश्यक रूप से परीक्षण कर लें.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कैबिनेट की बैठक के पहले मंत्रियों को संबोधित कर रहे थे. कैबिनेट की बैठक वंदे मातरम गान के साथ शुरू हुई. शिवराज ने बताया कि वैक्सीन की दोनों डोज़ लगने से संक्रमण की गंभीरता कम होती है.

उन्होंने कहा कि दिसंबर के अंत तक प्रदेश में सभी पात्र व्यक्तियों का शत-प्रतिशत टीकाकरण सुनिश्चित किया जाए. इसके लिए प्रभारी मंत्री अपने प्रभार वाले जिलों और क्षेत्र की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों के साथ टीम भावना से कार्य करें और विशेष टीकाकरण के लिए वातावरण निर्मित करना सुनिश्चित करें.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि अगली कैबिनेट मीटिंग के बाद अस्पतालों की स्थिति और टीकाकरण के लिए वातावरण निर्माण के उद्देश्य से संचालित की गई गतिविधियों की विस्तार से समीक्षा की जाएगी.

अस्पतालों की स्थिति के संबंध में अगर कुछ सुधारात्मक उपाय करने हैं, तो उस संबंध में भी निर्णय लिया जाएगा. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि कोरोना की संभावित

तीसरी लहर जनवरी में आ सकती है. इसलिए जहां पहलेर्व से कोविड केयर सेंटर बने हैं, उन्हें बने रहने दिया जाए और उनकी व्यवस्थाओं के सुचारू संचालन को सुनिश्चित किया जाए.

Loading...
loading...

Related Articles

Back to top button
Live TV