Main Slideउत्तर प्रदेश

पूर्व उपमहापौर अभय सेठ का हुआ निधन, पीजीआइ में चल रहा था इलाज, पढ़े पूरी खबर

उत्तर प्रदेश में कोरोना के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। सोमवार दोपहर पूर्व उपमहापौर अभय सेठ का निधन हो गया। अभय कोरोना वायरस से संक्रमित थे और उनका इलाज पीजीआइ में चल रहा था।

Loading...

वहीं थाना मड़ियांव में तैनात दीवान मायाराम कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। दीवान मायाराम थाना मड़ियांव अंतर्गत अजीज नगर पुलिस चौकी में तैनात हैं। अब अजीज नगर  पुलिस चौकी को क्वॉरेंटाइन किया जाएगा।राजधानी में सोमवार को कोरोना के 36 नए मामले सामने आए हैं। इसमें एक डॉक्टर समेत रिजर्व पुलिस लाइन के 6 मरीज हैं। ऐसे ही सर्वोदय के नगर के पांच मरीज समेत विभिन्न इलाकों के हैं। ऐसे में अब शहर में 1314 कोरोना संक्रमित हो गए हैं। वयस्कों-बुजुर्गों को शिकार बना रहे खतरनाक वायरस ने बच्चों को भी नहीं बख्शा। राजधानी में बीते दिन यानी रविवार को पहली बार 10 वर्षीय बच्चे की कोरोना से मौत हो गई। इसका इलाज केजीएमयू में चल रहा था। वहीं,  डीआइजी जेल समेत 53 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई। 35 इलाकों के मरीजों में वायरस की पुष्टि होने पर हड़कंप है। आस-पड़ोस के लोग घबराएं हुए हैं।

डीआइजी जेल समेत 53 लोगों में कोरोना

बीते दिन यानी रविवार को 53 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई। इसमें डीआइजी जेल संजीव त्रिपाठी में कोरोना की पुष्टि हुई। उन्हें पीजीआइ भर्ती कराया गया। इसके अलावा केजीएमयू के डॉक्टर, कर्मी, पीजीआइ-लोहिया संस्थान के कर्मी में वायरस की पुष्टि हुई है। वहीं, राजाजीपुरम के दो, हुसैनगंज के दो, एलडीए कॉलोनी के दो, आलमबाग के तीन, महबूबगंज के एक, सर्वोदयनगर के एक, गोमतीनगर में तीन, सुभाष मार्ग में एक, डालीगंज में एक, कश्मीरी मोहल्ला में एक, जानकीपुरम में तीन, इन्दिरानगर में छह, अमौसी में एक, तेलीबाग में एक, निरालानगर में एक, सीतापुर रोड के दो, राजेंद्रनगर में एक, रायबरेली रोड के एक, कल्याणपुर में एक, वृन्दावन योजना में दो, रश्मि खंड में एक महानगर में एक, इन्द्रपुरी कॉलोनी में एक, दुबग्गा में एक, पारा रोड का एक ,अलीगंज में दो, एल्डिको रायबरेली रोड का एक, मानक नगर का एक, ओमेक्स सिटी का एक, नाका में दो, अवध विहार में दो, रिजर्व पुलिस लाइन में एक, आशियाना में एक, चौक में एक रोगी मिला है।

कोरोना को मात देकर घर लौटे

अस्पतालों में भर्ती मरीज कोरोना को मात भी दे रहे हैं। रविवार को 28 मरीजों ने बीमारी से जंग जीती है। इसमें केजीएमयू के सात, एसजीपीजीआइ के पांच, एलबीआरएन के 12, आरएसएम से चार मरीज डिस्चार्ज किए गए। सभी मरीजों को 14 दिन के लिए होम क्वारंटाइन की सलाह दी गई है। इसके अलावा 718 लोगों के सैम्पल संग्रह कर जांच के लिए केजीएमयू भेजा गया है।

राजधानी में पहले बच्चे की मौत

बीकेटी निवासी 10 वर्षीय बच्चे को जुकाम-बुखार था। स्थानीय स्तर पर इलाज से फायदा नहीं हुआ। उसमें जांच में कोरोना की पुष्टि हुई। ऐसे में शुक्रवार को दोपहर एक बजे उसे केजीएमयू में भर्ती कराया गया। यहां संक्रामक रोग यूनिट के आइसीयू में बच्चे को भर्ती किया गया। बच्चे को सांस लेने में दुश्वारी होने लगी। उसे वेंटिलेटर पर शिफ्ट किया गया। मगर, डॉक्टरों के काफी प्रयास के बावजूद बचाया नहीं जा सका है। शनिवार को सुबह पांच बजे बच्चे की मौत हो गई। वहीं संस्थान प्रशासन मौत पर कुंडली मारे रहा। कोरोना मरीज की डेथ रिपोर्ट की जानकारी 36 घंटे बाद उजागर हुई। संस्थान के प्रवक्ता डॉ. सुधीर सिंह के मुताबिक, बच्चे में संक्रमण फैल गया था। उसमें रेस्परेटरी फेल्योर हो गया। वहीं, विभाग से मौत की जानकारी देर में मिली।

15 अप्रैल को हुई थी पहली मौत

शहर में कोरोना से पहली मौत 15 अप्रैल को हुई थी। वहीं मई में तीन लोगों की जिंदगी कोरोना ने छीनी। जून में कोरोना ने कहर बरपाया। जहां तीन गुना लोग अधिक संक्रमित हुए। वहीं,15 लोगों की बीमारी से मौत भी हुई। जुलाई में यह दूसरी मौत है। अब तक शहर में कोरोना के मृतकों की उम्र 40 वर्ष के ऊपर रही। वहीं 10 वर्ष के बच्चे सबसे कम उम्र का कोरोना से मौत का शिकार हुआ।

  • 13 अप्रैल : ट्रॉमा सेंटर में नजीराबाद निवासी संक्रमित वृद्ध को एक संकाय सदस्य ने भर्ती करा दिया। जांच में संक्रमण की पुष्टि हुई। 55 डॉक्टर-कर्मचारी क्वारंटीन किए गए।
  • 26 अप्रैल : ट्रॉमा सेंटर के सीसीएम विभाग में नर्स संक्रमित नर्स मिली। संपर्क में आए 15 डॉक्टर-कर्मचारी क्वारंटीन किए गए।
  • 16 मई : क्वीनमेरी में काकोरी निवासी संक्रमित गर्भवती का ऑपरेशन से प्रसव हुआ। रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर 36 डॉक्टर कर्मचारी क्वारंटीन किए गए।
  • 18 मई : क्वीनमेरी में तैनात नर्स में कोरोना पॉजिटिव मिली, आधा दर्जन स्टाफ क्वारंटीन
  • 27 मई : केजीएमयू के रेडियोथेरेपी विभाग में कैंसर मरीज में कोरोना वायरस मिले। छह कर्मचारी क्वारंटीन किए गए।
  • 29 मई : केजीएमयू के पीडियाट्रिक आंकोलॉजी में भर्ती बच्चे में कोरोना की पुष्टि हुई थी। छह कर्मचारी क्वॉरंटीन किए गए।
  • 21 जून : लारी के आइसीयू में तैनात नर्स में कोरोना। 38 डॉक्टर कर्मचारी क्वारंटीन किए गए।
  • 03 जुलाई : दंत संकाय के एक टेक्नीशियन व आईसीयू का एक रेजिडेंट संक्रमित मिला। कई कर्मचारी होम क्वारंटीन भेजे गए।
  • 05 जुलाई : केजीएमयू में नौ डॉक्टर-कर्मचारी संक्रमित मिले। 30 से ज्यादा लोग क्वारंटीन किए गए।
Loading...
loading...

Related Articles

Back to top button
Live TV