दिल्ली एनसीआरप्रदेश

तरुण सागर की अंतिम क्रिया के लिए लगी करोड़ों रुपये की बोली…

क्रांतिकारी राष्ट्र संत मुनिश्री तरुण सागर महाराज की अंतिम क्रिया के लिए लाखों रुपये की बोली लगी। इसके बाद उनका दाहसंस्कार किया गया।  शांति धारा की बोली सबसे पहले लगी।

Loading...

पुष्प वर्षा, कलश, पंचामृत, मुखग्नि देने तक की बोली लगी। गुजरात, हरियाणा, यूपी, दिल्ली, राजस्थान, मध्यप्रदेश आदि प्रदेशों से लोग अंतिम यात्रा में शामिल हुए। आपको बता दें कि तरुण सागर का मुरादनगर में अंतिम संस्कार किया गया। 

अग्नि संस्कार देने की बोली 
1 करोड 94 लाख 
सिक्के उछाल की बोली सोना, चांदी 
21 लाख रुपये 
गुलाल उछाल की बोली 
– 41 लाख रुपये 
मुहपति की बोली 
– 21 लाख 94 हजार 194 रुपये 
बायां कंधा लगाने की बोली
– 32 लाख रुपये 
दायां कंधा लगाने की बोली 
– 21 लाख 21 हजार 111 रुपये

महाराज जी के निधन के बारे में सुनकर दुख हुआ। मैं उनके साथ 20 साल से जुड़ा हूं। उनके कड़वे प्रवचन भारत ही नहीं विश्व में प्रसिद्ध हैं। उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करता हूं। राकेश जैन। 

 महाराज हम सब को छोड़कर चल गए। आज हम सभी के लिए ऐसा महसूस कर रहा हूं, हमारा पालन हार हमें छोड़कर चला गया। जिसने हमें जीना सिखाया, पढ़ना, उठना, बैठना सिखाया। उनकी छवि पूरे विश्व में है। ब्रहमचारी देवेंद्र महाराज। 

तरुण महाराज का निधन उनके अनुयायी ही नहीं पूरे देश के लिए क्षति है। हमारे लिए सौभाग्य की बात है कि ऐसी पवित्र आत्मा का अंतिम संस्कार हमारे गांव की जमीन पर हुआ। गांव धन्य हो गया। अर्णिमा त्यागी, प्रधान बसंतपुर सैंथली गांव
 
राष्ट्र संत तरुण सागर महराज ने जैन समाज को विश्व में चमकाया। पिछले बार आए थे। प्रवचन के लिए कहा था। तैयारी भी लगभग पूरी हो गई थी। पर उसके पहले ही हम सब को छोड़कर चले गए। स्वदेश जैन

Loading...
loading...

Related Articles

Live TV
Close