Main Slideदेशबड़ी खबर

क्रिसमस के अलावा अटल बिहरी और मदनमोहन मालवीय जैसे बड़े नेताओ नामों के लिए भी जाना जाता है 25 दिसंबर का दिन.

कवि, पत्रकार और भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 1924 में आज ही मध्यप्रदेश में हुआ था। ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज से स्नातक किया। राजनीति शास्त्र में स्नातकोत्तर के लिए

Loading...

1942 में 16 साल की उम्र में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सक्रिय सदस्य बने। 1951 में बनीं जनसंघ पार्टी के संस्थापक सदस्यों में एक रहे। 1975 में लगी इमरजेंसी के दौरान जेल गए। 1977 में विदेश मंत्री होने के नाते उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासभा में हिंदी में भाषण दिया। ऐसा करने वाले वह पहले भारतीय नेता थे। वे वीर रस के कवि थे। उनकी कविताएं निराशा और अंधकार में उम्मीद और रोशनी की लौ जलाती हैं।

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के संस्थापक के रूप में मशहूर महामना मदनमोहन मालवीय का जन्म 1861 में आज ही इलाहाबाद में हुआ था। जब गुलाम भारत आजादी के सपने देख रहा था तो इस राजनेता, स्वतंत्रता सेनानी और शिक्षाविद् ने ज्ञान की अलख जगाई। महात्मा गांधी इन्हें अपने बड़े भाई समान मानते थे। नेहरू इनको भारतीय राष्ट्रीयता की नींव रखने का श्रेय देते थे। सत्यमेव जयते के उद्घोष को इन्होंने ही लोकप्रिय किया।

1886 में कलकत्ता के कांग्रेस अधिवेशन में उन्होंने भाषण दिया जिसे लोगों ने काफी सराहा। यहीं से उनका राजनीतिक सफर शुरू हुआ। चार बार कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए। कई अखबारों का संपादन किया और वकालत भी की। देश के प्रमुख शिक्षा संस्थानों में शामिल बनारस हिंदू विश्वविद्यालय की 1916 में स्थापना की। 12 नवंबर, 1946 को 84 साल की उम्र में देहांत हो गया। 2015 में भारत सरकार ने उन्हें मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया।

Loading...
loading...

Related Articles

Back to top button
Live TV