जम्मू कश्मीरप्रदेश

जम्मू-कश्मीर में पाक ने आइबी व एलओसी पर दागे गोले…

उत्तरी कश्मीर के हारवन, सोपोर में मंगलवार को आतंकियों की ओर से किए गए आइईडी धमाके में एक सैन्य वाहन क्षतिग्रस्त हो गया और उसमें सवार दो जवान घायल हो गए। सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेरकर आतंकियों की तलाश शुरू कर दी है। पिछले दो दिनों में सोपोर में यह दूसरा आइईडी धमाका है। 

Loading...

मच्छल में घुसपैठ करते तीन आतंकी मारे गए 

सेना के जवानों ने बुधवार को उत्तरी कश्मीर के मच्छल (कुपवाड़ा) सेक्टर में घुसपैठ के एक प्रयास को नाकाम बनाते हुए तीन आतंकियों को मार गिराया है। मुठभेड़स्थल से भारी मात्रा में हथियार और गोला बारुद भी मिला है। फिलहाल, मारे गए घुसपैठियों के अन्य साथियों की तलाश की जा रही है। 

सोमवार को नाथीपोरा के पास आइईडी धमाके में कुपवाड़ा लाए जा रहे कैदियों के वाहन के आगे चल रहा पुलिस का सुरक्षा वाहन क्षतिग्रस्त हो गया था। सोपोर से मिली जानकारी के अनुसार, मंगलवार शाम करीब साढ़े सात बजे सोपोर से सटे हारवन में सेना के जवानों का एक दल अपने वाहन में जा रहा था।

पाकिस्तान ने फिर अपने दोहरे चरित्र को दर्शाया है। फ्लैग मीटिंग के चंद घंटे बाद सोमवार देर रात को अखनूर सेक्टर के परगवाल में मोर्टार शेल दागे। इसके अलावा मंगलवार सुबह शांति का विश्वास दिलाने वाले पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर राजौरी जिले के झंगड़ सेक्टर में गोलाबारी कर अपनी नापाक नीयत दिखा दी। भारत की ओर से भी मुंहतोड़ जवाब दिया गया। इसके बाद गोलाबारी रुक गई।

हालांकि, सैन्य अधिकारियों ने आइबी पर जम्मू के अखनूर सेक्टर में गोलाबारी से इन्कार किया है। पाक के दुस्साहस से सीमांत क्षेत्र के लोग डरे हुए हैं। 15 मई के बाद से जम्मू संभाग के कठुआ, सांबा व जम्मू जिलों में पाकिस्तान की भारी गोलाबारी में चार सीमा प्रहरी शहीद हो चुके हैं, जबकि 10 आम नागरिक भी मारे गए हैं। गोलाबारी में घायल हुए 74 लोगों में से कई जम्मू के मेडिकल कॉलेज अस्पताल में उपचाराधीन हैं।ऐसे हालात में सोमवार शाम को जम्मू के आरएसपुरा में सेक्टर कमांडर स्तर की फ्लैग मीटिंग खत्म के बाद परगवाल क्षेत्र में धमाकों की आवाज से लोग सिहर उठे।

स्थानीय लोगों के अनुसार, पाकिस्तान ने सोमवार शाम साढ़े सात बजे हमीरपुर कोना इलाके में दो मोर्टार दागे थे। शांति की आड़ में खूनखराबा करने के लिए बदनाम पाकिस्तान की नीयत पर न सिर्फ सीमांत ग्रामीणों अपितु सीमा सुरक्षा बल को भी शक है। आठ जून को केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह भी जम्मू के दौरे आ रहे हैं। वह जम्मू में सीमा के सुरक्षा हालात के बारे में भी जानकारी लेंगे। इसको लेकर सीमा सुरक्षाबल जम्मू संभाग में 200 किलोमीटर अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कड़ी चौकसी बरत रही है।

फ्लैग मीटिंग के बाद सीमा पर शांति बनाए रखने की पूरी कोशिश :

डीआइजीसीमा सुरक्षा बल जम्मू फ्रंटियर के डीआइजी अखिलेश्वर ¨सह ने बताया कि पिछले 24 घंटों में जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कोई गोलाबारी नहीं हुई है। एक सामान्य प्रक्रिया के तहत न फटने वाले ब्लाइंड मोर्टार तबाह किए जाते हैं। इनके धमाकों की आवाज भी दूर-दूर तक सुनाई देती है। फ्लैग मीटिंग के बाद सीमा पर शांति बनाए रखने की पूरी कोशिश की जा रही है।

दहशत में लोगजम्मू जिले के अखनूर सेक्टर के परगवाल व आसपास के इलाकों में पाक गोलाबारी से भारी तबाही होने के बाद लोग डरे हुए हैं। सेना, सुरक्षाबलों के अभ्यास फायर से भी लोग सहम जाते हैं।

हाजिन में भी आतंकी हमला

 

उत्तरी कश्मीर के हाजिन, बांडीपोर में मंगलवार को आतंकियों ने सेना की 13 आरआर के शिविर पर हमला किया, लेकिन हमले में कोई नुकसान नहीं हुआ। इस बीच, शरारती तत्वों ने लोगों को लाउड स्पीकरों के माध्यम से भड़काया। कुछ ही देर बाद कस्बे में पुलिस के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन शुरू हो गए।

मंगलवार रात करीब साढ़े आठ बजे चार-पांच के दो गुटों में आतंकियों का एक दल कस्बे में दाखिल हुआ। आतंकियों ने 13 आरआर के शिविर को दो तरफ से घेरते हुए पहले उस पर राइफल ग्रेनेड दागे और उसके बाद उन्होंने अपने स्वचालित हथियारों से फायरिंग शुरू कर दी। इसी शिविर के साथ सीआरपीएफ का भी एक शिविर और पुलिस थाना सटा हुआ है।

आरआर के जवानों ने भी अपनी पोजीशन ली और जवाबी फायर किया। इस बीच, पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों ने भी मोर्चा संभालते हुए आतंकियों की घेराबंदी शुरू कर दी। शुरू में लगा कि आत्मघाती हमला है। करीब एक घंटे तक दोनों तरफ से गोलियां चलती रहीं। इसके बाद आतंकियों की तरफ से गोलियों की बौछार थम गई।फिलहाल, सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेरते हुए आतंकियों की धरपकड़ के लिए तलाशी अभियान छेड़ रखा है। शिविर के भीतर भी एहतियातन तलाशी ली जा रही है।

पुलिस अधिकारियो की मानें तो आतंकी भागने में कामयाब रहे हैं। इस बीच, मुठभेड़ के दौरान शरारती तत्वों ने मस्जिदों के लाउड स्पीकरों से एलान करते हुए लोगों को जिहाद व इस्लाम के नाम पर घरों से बाहर आने को उकसाते हुए सुरक्षाबलों के खिलाफ जुलूस निकालने को कहा। लोग बड़ी संख्या में अपने घरों से बाहर निकल आए और सुरक्षाबलों के शिविर के पास पहुंचकर नारेबाजी करने लगे। इस दौरान कुछ लोगों ने पथराव भी किया। स्थिति पर काबू पाने के लिए सुरक्षाबलों को भ बल प्रयोग करना पड़ा। 

Loading...
loading...

Related Articles

Live TV
Close